जानकारी के बावजूद पेपर लीक मामला दबाए रहीं CBSE चीफ, कांग्रेस ने की बर्खास्त करने की मांग

March 29, 2018 education, Uncategorized0
Spread the love for our web

cbse-1.jpg

सीबीएसई की 10वीं कक्षा का गणित का लीक हुआ पेपर सीबीएसई चेयरपर्सन के व्हाट्स ऐप पर भी भेजा गया था. इसके बाद से ये सवाल उठने लगा है कि क्या बोर्ड को परीक्षा शुरू होने से पहले पेपर रद्द नहीं कर देना चाहिए था. बता दें कि 10वीं के लीक हुए पेपर की परीक्षा बुधवार को निर्धारित थी, और परीक्षा के बाद बोर्ड ने पेपर लीक का हवाला देते हुए गणित का पेपर रद्द कर दिया.इस मामले में कई कंवेंट स्कूलों के 10 छात्रों को व्हाट्सऐप पर लीक पेपर मिला था. उनसे पूछताछ जारी है.

सूत्रों के मुताबिक सीबीएसई चेयरपर्सन को परीक्षा से पहले व्हाट्सऐप पर गणित का पेपर मिला था. यही नहीं सिर्फ गणित का ही पेपर नहीं, बल्कि 12वीं कक्षा का अकाउंट्स का पेपर भी सीबीएसई चेयरपर्सन को व्हाट्सऐप पर मिला था. लेकिन सीबीएसई ने इसे खारिज करते हुए कहा कि कुछ उपद्रवी ऐसा कर रहे हैं.

कांग्रेस ने की CBSE चीफ को बर्खास्त करने की मांग

कांग्रेस पार्टी ने पेपर लीक मामले को लेकर सरकार पर करारा हमला बोला है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि जानकारी के बावजूद सीबीएसई चीफ मामले को दबाए रहे. उन्हें तुरंत बर्खास्त किया जाना चाहिए. सुरजेवाला ने मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर के इस्तीफे की भी मांग की.

मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि इस पेपरलीक से सीबीएसई की छवि को नुकसान पहुंचा है. इस मामले में दोषी बख्शे नहीं जाएंगे.

पेपर लीक का मामला सामने आने के बाद सीबीएसई ने एक बयान में कहा, “बोर्ड परीक्षाओं की पवित्रता बनाए रखने और विद्यार्थियों के हित में बोर्ड ने दोनों विषयों की परीक्षा दोबारा कराने का निर्णय लिया है.”

सीबीएसई की वेबसाइट पर परीक्षाओं की तारीख और अन्य जानकारियां एक सप्ताह के अंदर उपलब्ध करा दी जाएंगी. सीबीएसई की 12वीं कक्षा की अर्थशास्त्र की परीक्षा सोमवार को और 10वीं कक्षा की गणित की परीक्षा बुधवार को हुई है.

कुछ प्राइवेट स्कूलों के शिक्षकों ने सोमवार को पाया कि 12वीं कक्षा के अर्थशास्त्र के प्रश्न-पत्र, उस हस्तलिखित प्रश्न-पत्र से बिल्कुल मिल रहे थे, जो पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर घूम रहे थे. इसके बाद बोर्ड ने इन प्रश्न-पत्रों की परीक्षाएं दोबारा कराने का निर्णय लिया.

केंद्रीय मानव संसाधन एवं विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रश्न-पत्र लीक होने की पुष्टि करते हुए कहा कि दिल्ली पुलिस का विशेष जांच दल मामले की जांच कर रहा है. उन्होंने कहा कि प्रश्न-पत्र लीक के पीछे एक गिरोह है और सोमवार के बाद ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए बेहतर तंत्र स्थापित करने का उन्होंने आश्वासन दिया.

जावड़ेकर ने बताया, “सीबीएसई दोबारा हो रही परीक्षाओं के लिए नई तारीखों की घोषणा जल्द करेगा. सोमवार से हम लोग एक सुरक्षित तंत्र तैयार कर रहे हैं.” उन्होंने कहा, “मुझे पूरा विश्वास है कि पुलिस अपराधियों को पकड़ लेगी. हम किसी के साथ अन्याय नहीं होने देंगे. जो कुछ भी हुआ है, हमें उसका दुख है.”

प्रश्न-पत्र लीक की जांच के लिए एसआईटी गठित

10वीं और 12वीं कक्षा के कथित प्रश्न-पत्र लीक मामले की जांच के लिए दिल्ली पुलिस ने अपनी अपराध शाखा का एक विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित किया है. विशेष पुलिस आयुक्त आर.पी. उपाध्याय ने बताया, “एसआईटी का नेतृत्व संयुक्त आयुक्त आलोक कुमार करेंगे.

जांच करने वाली एसआईटी में पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) और सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) रैंक के पुलिसकर्मी शामिल हैं.” सीबीएसई द्वारा अपराध शाखा में दो मामले दर्ज करने के बाद एसआईटी का गठन हुआ है.

एक सप्ताह के अंदर घोषित होगी परीक्षा की नई तारीख

पहला मामला मंगलवार शाम दर्ज हुआ था, जिसमें सीबीएसई की 12वीं कक्षा के अर्थशास्त्र विषय के प्रश्न-पत्र लीक होने का मामला था, तथा बुधवार को दर्ज दूसरे मामले में 10वीं के गणित विषय के प्रश्न-पत्र लीक का मामला था. 12वीं की अर्थशास्त्र की परीक्षा 26 मार्च को, जबकि 10वीं की गणित की परीक्षा बुधवार को हुई थी.

सीबीएसई ने दोनों प्रश्न-पत्रों की परीक्षा दोबारा कराने का निर्णय लिया है. इसके लिए परीक्षा की नई तिथि और अन्य जानकारियों की घोषणा सीबीएसई की वेबसाइट पर एक सप्ताह के अंदर कर दी जाएगी.

Leave a Comment