हरियाणा के 10 नगर निगम और सभी मेयर

June 21, 2018 News, politics, Uncategorized0
Spread the love

कब-कब बने 10 निगम

  1. फरीदाबाद-1994.– वर्ष 1994-1995 में पूर्व मुख्यमंत्री भजनलाल की सरकार में औद्योगिक नगरी फरीदाबाद को नगर निगम बनाया गया। हरियाणा में यह पहला निगम बना। भजनलाल का फरीदाबाद से खास लगाव था। वे यहां से 1987 में सांसद चुने गये थे। उन्होंने यहां काफी काम भी कराए। 1991 में वे मुख्यमंत्री बने। इसके तीन साल बाद ही उन्होंने शहर की आवश्यकताओं और विकास की मांग को देखते हुए फरीदाबाद को नगर निगम का दर्जा दे दिया।
  2. गुरूग्राम-2008–फरीदाबाद के निगम बनने के 14 साल तक प्रदेश में कोई निगम नहीं बना। यहां तक कि इसके लिये मांग भी नहीं उठी। हालांकि गुड़गांव के लिये गुड़गांव डेवलपमेंट अथॉरिटी (जीडीए) बनाने की मांग जरूर उठी। तत्कालीन कांग्रेस सांसद राव इंद्रजीत और तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बीच इसे लेकर तनातनी थी। लोगो की भी मांग थी कि यहां जीडीए बनाया जाए। राव इंद्रजीत इसके पक्ष में थे। वे इसके लिये प्रयास भी कर रहे थे। लेकिन हुड्डा ने इन सभी मांगों को दरकिनार कर यहां निगम बनाने का ऐलान कर दिया। गुड़गांव प्रदेश का दूसरा नगर निगम बना। वर्ष 2011 में इसका पहला चुनाव हुआ। इसमें ज्यादातर राव इंद्रजीत समर्थक जीतकर आये। इंद्रजीत के पाला बदलकर भाजपा में जाने के बाद पार्षदों ने भी पाला बदल लिया। अब भाजपा बहुमत में है। 35 सदस्यीय सदन में भाजपा समर्थित पार्षदों की संख्या 18 से अधिक है। मेयर विमल यादव व डिप्टी मेयर परमिंद्र कटारिया भाजपा समर्थित हैं। सीनियर डिप्टी मेयर यशपाल बतरा कांग्रेस समर्थित हैं।
  3. 2010 में एक साथ 7 निगम बनाए गए.— गुड़गांव को नगर निगम बनाने की हुड्डा ने ऐसी शुरुआत की िक अगले दो साल में उन्होंने सात और निगम बना दिये। हुड्डा सरकार ने 17 मार्च, 2010 को नोटिफिकेशन जारी करके पंचकूला, अम्बाला, यमुनानगर, करनाल, पानीपत, रोहतक व हिसार को नगर निगम का दर्जा दे दिया।

 

निगम को हर हाल में करने हैं ये काम

– वार्डों में साफ-सफाई के इंतजाम करवाना
– सड़कों पर स्ट्रीट लाइट की व्यवस्था
– पानी सप्लाई की व्यवस्था सुनिश्चित करना
– बिल्डिंग बनाने की अनुमति देना
– आग बुझाने के लिए फायर ब्रिगेड की व्यवस्था
– कांजी हाउस की स्थापना और संचालन
– खतरनाक भवनों को सुरक्षित करना या हटाना
– एंबुलेंस सेवा को व्यवस्थित रखना
– सड़कों का नामकरण और घरों की नंबरिंग करना
– प्राथमिक स्कूल खोलना और उन्हें चलाना

 

हरियाणा नगर निगम के मेयर

 

रोहतक-20 वार्ड, मेयर- रेणु डाबला(SC)

हिसार- 31 वार्ड, मेयर- शकुंतला राजलीवाला,(SC)

गुरूग्राम-37 वार्ड, मेयर- मधु आजाद(SC)

फरीदाबाद-35 वार्ड, मेयर- सुमन बाला(SC)

पंचकुला-31 वार्ड, मेयर- उपेंद्र कौर अहलूवालिया(GEN)

अंबाला-31 वार्ड, मेयर- रमेश मल(SC)

यमुनागगर-31 वार्ड, मेयर- सरोज बाला(SC)

पानीपत-32 वार्ड, मेयर- सुरेश वर्मा(OBC)

सोनीपत-33 वार्ड, मेयर-

करनाल-33 वार्ड, मेयर- रेणु बाला गुप्ता(GEN)

Leave a Comment