ISIS के निशाने पर था बड़ा इमामबाड़ा, ट्रेन धमाका बस ट्रायल था

March 8, 2017 TV MEDIA0
Spread the love for our web

भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में मंगलवार सुबह हुए बम ब्लास्ट के बाद पकड़े गए आईएसआईएस आतंकियों के निशाने पर लखनऊ का बड़ा इमामबाड़ा था. सूत्रों के मुताबिक, आतंकियों के पास से जब्त दस्तावेज से पता चलता है कि वह शिया धार्मिक स्थलों को निशाने पर लेने की फिराक में थे और बड़ा इमामबड़ा उनका पहला टार्गेट बनने वाला था.

शिया जलसों और जनाज़ों को बनाने वाले थे निशाना
सूत्रों के मुताबिक, ये समूह यूपी के बाराबंकी में देवा शरीफ, लखनऊ में इमामबाड़े के अलावा शिया जुलूस या शिया जनाजे को निशाना बनाने की फिराक में था. हालांकि यूपी में चुनाव की वजह से वहां सख्त सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए आतंकियों ने अपने इरादे टाल दिए थे. उन्होंने अपनी प्लानिंग के ट्रायल के लिए उज्जैन में ट्रेन में पाइप बम प्लांट किया. सूत्रों के मुताबिक, इस बम पर उन्होंने अंग्रेजी में “Islamic State is here” भी लिख रखा था और इसकी तस्वीरें सीरिया भेजी थी.

इससे पहले यूपी की राजधानी लखनऊ में ATS ने 11 घंटे तक चले ऑपरेशन में ISIS आतंकी सैफुल्ला को मार गिराया . मध्य प्रदेश में मंगलवार को हुए ट्रेन बम धमाके की जांच के दौरान इस आतंकी मॉड्यूल का खुलासा हुआ था. उसके बाद लखनऊ में एटीएस ने इस आतंकी के अड्डे पर धावा बोला और 11 घंटे तक चले मुठभेड़ में उसे मार गिराया. एडीजी लॉ एंड ऑर्डर दलजीत चौधरी ने इसकी पुष्टि की.

ISIS के खुरासान माड्यूल का था सदस्य
यूपी पुलिस के मुताबिक आतंकी को जिंदा पकड़ने की हरमुमकिन कोशिश की गई. एटीएस के आईजी ने बताया कि पहले कैमरों में देखने पर ऐसा लग रहा था कि वहां दो आतंकी छिपे हैं, लेकिन अंदर एक ही आतंकी छिपा था. पुलिस ने घर में तलाशी अभियान में आईएसआईएस से जुड़े कई दस्तावेज और भारी संख्या में हथियार और गोला-बारुद बरामद किया है.

ISIS के खुरासान मॉड्यूल के बारे में 10 बातें

बता दें कि उज्जैन की तरफ जा रही भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन सुबह करीब 10 बजे के करीब कालापीपल में जबड़ी स्टेशन के पास से गुजर रही थी, तभी ट्रेन में धमाका हुआ. इस धमाके में चार लोग घायल हो गए, जबकि ट्रेन के एक हिस्से की छत में छेद हो गया. पहले खबर आई थी कि ट्रेन के डिब्बे में मोबाइल चार्जिंग के दौरान ब्लास्ट हुआ. हालांकि एमपी पुलिस ने घटना की जांच शुरू की, तब पता चला कि यह धमाका पाइपबम के जरिये किया गया. इस संबंध में पुलिस ने पिपरिया के पास एक बस से तीन संदिग्धों को गिरफ्तार किया. उनसे पूछताछ में दो संदिग्धों के यूपी में होने की खबर आई.

इसके बाद यूपी पुलिस हरकत में आई और ATS ने कानपुर और इटावा से 3 अन्य आतंकियों फैज़ान, इमरान और फैज़ल को गिरफ्तार किया है. पुलिस के मुताबिक, सभी आतंकी ISIS खुराशान के लखनऊ-कानपुर मॉड्यूल के सदस्य हैं.

ये भी पढ़ें –

लखनऊ में मारे गए ISIS आतंकी सैफुल्ला के पिता बोले- बेटा देशद्रोही, नहीं लूंगा लाश

लखनऊ एनकाउंटर में मारे गए आईएसआईएस आतंकी सैफुल्ला के पिता ने उसका शव लेने से इनकार कर दिया है. आजतक की टीम सैफुल्ला के घर पहुंची. उसके पिता ने कहा कि उसने जो किया अफसोसनाक है. सैफुल्ला के पिता ने कहा है कि उसने जो भी किया है वो देशहित में नहीं है. ऐसे देशद्रोही की लाश हम नहीं लेंगे.

एटीएस ने मंगलवार को एनकाउंटर में आईएसआईएस आतंकी सैफुल्ला को लखनऊ में मार गिराया था. आज तक की टीम बुधवार को उसके घर पर पहुंची. उसके घर से बम बनाने के तरीके, रेल नेटवर्क का मैप और तमाम उकसाने वाले साहित्य बरामद हुए हैं.

आज तक से क्या बोले सैफुल्ला के पिता?
आज तक से बातचीत के दौरान सैफुल्ला के पिता ने घटना पर अफसोस जाहिर किया. जो देश के खिलाफ हम उसके खिलाफ हैं.

रिश्तेदार बोला- काफी अच्छा था व्यवहार
इस बीच, सैफुल्ला का एक रिश्तेदार भी सामने आया है. उसने बताया कि वह काफी अच्छे व्यवहार वाला लड़का था. पांच बार नमाज पढ़ता था. हमें ऐसी उम्मीद नहीं कर रखी थी. सब हैरान हैं.

11 घंटे चली मुठभेड़
उत्तर प्रदेश के सातवें चरण के मतदान के ठीक 1 दिन पहले लखनऊ के ठाकुरगंज इलाके में एटीएस के ऑपरेशन ने सनसनी फैला दी थी. एटीएस के इस ऑपरेशन में आईएस का एक आतंकी सैफुल्ला ढेर कर दिया गया था. एक आतंकी को मारने में एटीएस को करीब 11 घंटे तक मशक्कत करनी पड़ी. इस ऑपरेशन के तार मध्यप्रदेश के ट्रेन बम धमाके से जुड़े हैं. इसी संदर्भ में कानपुर और इटावा से भी गिरफ्तारियां हुई है.

पहले दो आतंकी होने की थी आशंका
शुरुआत में एटीएस ने इस बात की पुष्टि की थी कि घर के भीतर कथित तौर पर सैफुल्ला नाम का शख्स है जिसके तार मध्यप्रदेश में हुए ट्रेन ब्लास्ट से जुड़े हैं. हालांकि शाम होते-होते यह आशंका सामने आई कि आतंकी एक नहीं बल्कि दो हैं. हालांकि अंत में एक ही आतंकी मिला और मारा गया.

 

Leave a Comment