क्या होता है नगर निगम चुनाव और नगर निकाय में अंतर

Spread the love

नगर निगम चुनाव

नगर निकाय चुनाव लड़ने के लिए प्रत्याशी को भारतीय नागरिक होना चाहिए। नगर निगम, निकाय क्षेत्र का मतदाता होना जरूरी है। पार्षद पद के लिए एक प्रत्याशी की न्यूनतम उम्र 21 वर्ष और अध्यक्ष तथा मेयर पद के प्रत्याशी की उम्र 30 वर्ष निर्धारित है। नामांकन के समय प्रत्याशी के साथ दो समर्थक व दो प्रस्तावक संबंधित वार्ड का होना जरूरी है। एक वार्ड का मतदाता दूसरे वार्ड का चुनाव लड़ सकता है, लेकिन प्रस्तावक उसी वार्ड का होना जरूरी है। एक व्यक्ति मेयर और वार्ड दोनों पदों पर चुनाव लड़ सकता है।

एक प्रत्याशी को स्वघोषणा पत्र में संपत्ति समेत मांगे गये अन्य ब्योरे देना जरूरी है। इसके लिए शपथ पत्र देना पड़ेगा। नगर पर्षद और नगर पंचायत के वार्ड पार्षद, उपाध्यक्ष और अध्यक्ष को 250 रुपये जमानत राशि जमा करानी होगी, जबकि आरक्षित कोटे के प्रत्याशी को 125 रुपये देने होंगे। नगर निगम के चुनाव में वार्ड पार्षद, उपमहापौर व महापौर के लिए जमानत राशि पांच सौ रुपये निर्धारित किये गये हैं। आरक्षण की स्थिति में 250 रुपये जमानत राशि जमा करानी होगी। आवासीय प्रमाण पत्र, आचरण प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं है। नगर निगम से एनओसी की भी जरूरत नहीं है। मतदाता सूची में नाम होना जरूरी है। आरक्षित सीट से चुनाव लड़ रहे हों, तो जाति प्रमाण पत्र देना जरूरी होगा।

10वीं पास होना अनिवार्य


नगर निगम चुनाव के उम्मीदवारों के लिए 10वीं पास होना अनिवार्य हो गया है. महिला और अनुसूचित जाति के उम्मीदवार के लिए आठवीं पास होना जरूरी है. अनुसूचित जाति की महिला उम्मीदवार के लिए ये न्यूनतम योग्यता पांचवीं पास होगी.

 

  1. हरियाणा में कुल 10 नगर निगम, 13 जिले हैं.
  2. पहले 9 नगर निगम थे…जिसमें 10वां नगर निगम 2015 में सोनीपत को दिया गया.
  3. गुड़गांव और फरीदाबाद हरियाणा के पुराने नगर निगम हैं, जबकि सात नगर निगम पंचकूला, अंबाला, यमुनानगर, रोहतक, हिसार, पानीपत और करनाल और अब सोनीपत है…

 

  1. 2011 की जनगणना के मुताबिक सोनीपत की आबादी हालांकि 2 लाख 77 हजार 53 थी, लेकिन फिलहाल इसकी आबादी 4 लाख 366 है, जिसके आधार पर राज्य सरकार ने सोनीपत को नगर निगम का दर्जा दे दिया है।

 

 

नगर निगम और नगर निकाय में अंतर

भारत में, एक नगर पालिका अक्सर एक शहर के रूप में जाना जाता है. यह न तो एक ग्राम और न ही बड़े शहर के बराबर होता है, वरन उनके बीच का होता है. एक नगर पालिका 20 हजार या उससे अधिक लोगों को मिलाकर बनता है, लेकिन अगर यह 5 लाख से अधिक जनसंख्या वाला हो जाता है तब एक नगर निगम बन जाता है.

Leave a Comment