चोरों की बावड़ी में दफन है करोड़ों का खजाना

Spread the love

चोरों की बावड़ी


1. लोगों के अनुसार बावड़ी में सुरंगों का जाल बना हुआ है…जो की दिल्ली, हिसार, लाहौर तक है…
2. चोरों की बावड़ी को सुरंगों का जाल और स्वर्ग का झरना भी कहा जाता है…जिसे शाहजहान ने मुगल काल में बनवाया था.(साल- 1658-59).
3. बावड़ी में बने कूएं में जाने के लिए 101 सीड़ियों का सहारा लेना पड़ता है….
4. रजवाड़ो की लड़ाई में सेना यहां आराम भी करती थी. यहां पर कई कमरे भी हैं.


5. बावड़ी को लेकर कई कहानियां भी है…कहा जाता है की ज्ञानी चोर खजाना चोरी करके यहां छुप जाता था…और वही अरबो का खजाना यहां छुपा हुआ है..लकिन इतिहासकार इस बात को नहीं मानते.
6. इतिहासकारों की मानें तो इन बावड़ियों का निर्माण पानी की कमी को पूरा करने के लिए किया जाता था.
7. लोगों ने कई बार खजाने को ढूंढने की कोशिश की….लेकिन कुछ न मिला
8. अंग्रेजी शासन के समय में एक बारात सुरंग के रास्ते दिल्ली पहुंचना चाहती थी….लेकिन आज तक बारात का पता नहीं लगा था..जिसके बाद गुफाओं को अंग्रेजों ने बंद कर दिया था.
9. पुरातत्व विभाग के आधीन है बावड़ी. सरकार के द्वारा देख-रेख न करने की वजह से इसकी हालत जरजर है…
10. बावड़ी की हालत खराब होने की वजह से इसकी एक दीवार गिर चुकी है…और दूसरी भी कब गिर जाए…कुछ नहीं पता.
11. इस बारे में संरक्षित जगह चोरों की बावड़ी के संरक्षक श्रीराम शर्मा की मानें तो विभाग ने इसकी मरम्मत के लिए काम शुरू किया था, लेकिन 1995 में प्रदेश में आई बाढ़ की वजह से और फिर 1996 में भी यहां पानी भर गया था। मलबा बरसों से पड़ा है, कोई एक-दो दिन में तो यह सब हो नहीं जाता। विभाग के मुख्यालय को हर पहलू की जानकारी है। ऐतिहासिक धरोहर को हर हाल में सहेजकर रखा जाएगा।

Leave a Comment